Blog Archive

Saturday, January 7, 2017

BEST ANTHEM OF THE WORLD # Meaning of our National Anthem

BEST ANTHEM OF THE WORLD  

Meaning of our National Anthem

Word by Word Meaning



Jay He, Jay He, Jay He, Jay Jay Jay Jay He 

Victory,  Victory,  Victory,  Victory Forever



Saturday, November 5, 2016

Chakra Balancing

Wednesday, August 24, 2016

THOUGHT MADE POSSIBLE




💐👌🏻अच्छा दिखने के लिये मत जिओ बल्कि अच्छा बनने के लिए जिओ💐
💐👌🏻 जो झुक सकता है वह सारी दुनिया को झुका सकता  है।💐
💐👌🏻 क्रोध हवा का वह झोंका है जो बुद्धि के दीपक को बुझा देता है💐
💐👌🏻 अगर बुरी आदत समय पर न बदली जाये तो बुरी आदत समय बदल देती है💐
💐👌🏻 हमेशा प्रेम की भाषा बोलिए,इसे बहरे भी सुन सकते हैं और गुंगे भी समझ सकते हैं💐
💐👌🏻 चलते रहने से ही सफलता है,रुका हुआ तो पानी भी बेकार हो जाता है💐
💐👌🏻 झूठे दिलासे से स्पष्ट इंकार बेहतर है💐
💐👌🏻 खुद की भुल स्वीकारने में कभी संकोच मत करो💐
💐👌🏻 अच्छी सोच,अच्छी भावना,अच्छा विचार मन को हल्का करता है💐
💐👌🏻 मुसीबत सब पर आती है, कोई बिखर जाता है और कोई निखर जाता है 💐
💐👌🏻 सबसे अधिक समझदार वह* *है जो अपनी कमियो को जानकर उनका सुधार कर सकता हो💐
💐👌🏻विचारों के आदान प्रदान से बुद्धि जागृत होती है।

Sunday, February 7, 2016

ध्यान: Meditation : Hear You Inner Voice

ध्यान 


जीवन के उद्देश्य को प्राप्त करने और तनावमुक्त रहने का सबसे सरल एंव उपयोगी तरीका ध्यान या Meditation ही है| 

जानिए क्यों और कैसे केवल 20 मिनट का ध्यान या Meditation हमारी जिंदगी बदल सकता है|

Meditation या ध्यान, स्वंय से बात करने की विधि है|

हर मनुष्य के अन्दर एक शांत मनुष्य रहता है जिसे हम आत्मा कहते है | 
हमारी आत्मा हमेशा सही होती है और इसलिए शायेद यह कहा जाता है की हम इश्वर के अंश है| 
सभी महान लोगों ने येह स्वीकार किया है की आत्मा की आवाज इश्वर की आवाज़ है |

खुश रहेने का शिधा सा तरीका यह होता है की हम अपनी अन्दर छिपी हुई आत्मा ( अंतरात्मा) की आवाज़ सुने क्यूंकि हमारी आत्मा हमेशा और हर परिशिती में सही होती है |

हम जब कभी भी कुछ बुरा कर्म कर रहे होते है तो हमें अजीब सा लगता है | मानो हमें कोई बार बार केह रहा हो की वह बुरा काम मत करो | यही तो हमारी अंतरात्मा होती है जो हमें कुछ बुरा करने या किसी को दुःख पहुँचाने से रोकती है | और जब हम अपनी अंतरात्मा की आवाज को अनसुना कर देते  है, तो हमारा अपनी आत्मा से संपर्क कमजोर हो जाता है |

जब हम दूसरी बार कुछ बुरा करने जा रहे होते है तो हमें अपनी अंतरात्मा की आवाज फिर महसूस होती है लेकिन इस बार वह आवाज इतनी मजबूत नहीं होती क्योंकि हमारा अपनी अंतरात्मा से संपर्क कमजोर हो चुका होता है|

जैसे जैसे हम अपनी अंतरात्मा की आवाज को अनसुना करते जाते है वैसे वैसे हमारा अपनी अंतरात्मा के साथ संपर्क कमजोर होता जाता है और एक दिन ऐसा आता है कि हमें वो आवाज बिल्कुल नहीं सुनाई देती|

जैसे जैसे हमारा अपनी अंतरात्मा के साथ संपर्क कमजोर होता जाता है वैसे वैसे हम उदास रहने लगते है और खुशियाँ भौतिक वस्तुओं में ढूंढने लगते है| हम समस्याओं को हल करने में असक्षम हो जाते है जिससे “तनाव” हमारा हमसफ़र बन जाता है|

और ऐसी परिस्थिति में हमें स्वंय को वापस अपनी अंतरात्मा के साथ जोड़ना होता है और इसका सबसे अच्छा तरीका ध्यान या मैडिटेशन है|

Meditation – स्वयं नियंत्रण और आत्म बोध की तकनीक


जैसे जैसे हमें अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनाई देना बंद होती है वैसे वैसे हमारा स्वंय पर नियंत्रण नहीं रहता और हम सही गलत को पहचानना नहीं पाते| ऐसी स्थिति मैं हम खुद को नियंत्रित नहीं करते बल्कि परिस्थितियां हमें नियंत्रित करती है| हम वो करने लगते है जो आलस्य, डर, तनाव, लालच, क्रोध, घमंड और इर्ष्या हमसे करवाते है|

मैडिटेशन खुद पर नियंत्रित रखने एंव Self Realization की एक पद्धति है जो हमारी जिंदगी को आसान एंव खुशमय बनाता है| मैडिटेशन से हमारा आत्मविश्वास और Concentration बढ़ता है जिससे हमारा समस्याओं के प्रति नजरिया बदल जाता है| हम समस्याओं को रचनात्मक तरीकों से बड़ी आसानी हल कर पाते है जिससे तनाव कम होता है|

Meditation: भगवान के साथ कनेक्शन


सभी महान लोगों ने यह माना है कि हमारी अंतरात्मा में एक अद्भुत शक्ति होती है | हम भी कभी कभी महसूस करते है कि शायद हमारी अंतरात्मा एक ईश्वरीय अंश है या फिर हमारी अंतरात्मा ईश्वर से हमेशा जुड़ी रहती है तभी तो वो हर परिस्थिति में सही होती है|

स्वामी विवेकानंद ने कहा है –

“आप ईश्वर में तब तक विश्वास नहीं कर पाएंगे जब तक आप अपने आप में विश्वास नहीं करते|”

इसलिए ईश्वर से जुड़ने से पहले हमें अपनी अंतरात्मा से जुड़ना होता है या यूं कहें कि जब हम अपनी अंतरात्मा से जुड़ जाते है तो उस अद्भुत ईश्वरीय शक्ति से स्वत: ही जुड़ जाते है और मैडिटेशन हमें अपनी अंतरात्मा से जोड़ता है|

लगातार रोज मैडिटेशन करने पर हमें अद्भुत अनुभव होने लगते है जिसे शब्दों द्वारा नहीं बताया जा सकता| हमें उन सवालों के जवाब मिलने लगते है जो अभी तक अनसुलझे थे| हमें ऐसा लगता है जैसे हमारे साथ एक शक्ति है जो हमेशा हमारी मदद करेगी|

ध्यान की चिकित्सा शक्ति: खुशी असीमित

मन को शांत करने के लिए प्रयास करने की नहीं बल्कि प्रयास छोड़ने जरूरत होती है और यही ध्यान का उद्देश्य होता है|

मैडिटेशन मन की एक सहज अवस्था है जिससे हमारे भीतर का खालीपन दूर होता है| यह हमारी जिंदगी को बदल देता जिससे हम भौतिक वस्तुओं में खुशियाँ ढूँढना छोड़कर खुश रहना सीख जाते है| हमारे जीवन का हर पल खुशनुमा हो जाता है और हम वर्तमान में जीना सीख जाते है|

जब हमारा मन शांत एंव संतुष्ट होता है तो हमारा Concentration बढता है जिससे हम समस्याओं को बेहतर तरीके से हल कर पाते है और उन्ही समस्याओं में हमें संभावनाएं दिखने लगती है| 

चिकित्सा उपचार: ध्यान रोगों का इलाज कर सकता है


यह कहा जाता है कि ज्यादातर रोगों का कारण चिंता या तनाव (Stress) होता है| ध्यान के माध्यम से हम मन को सकारात्मक एंव तनावमुक्त बना सकते है जिससे की सकारात्मक उर्जा हमारे शरीर हमारे शरीर में प्रवेश करती है और हमारा शरीर स्वस्थ बनता है|

शोध में यह बात सामने आयी है कि Meditation और Healing Power कैंसर समेत कई रोगों में लाभकारी है और मैडिटेशन से कई तरह के रोगों को दूर किया जा सकता है क्योंकि ज्यादातर रोग Stress or Anxiety  की वजह से होते है और मैडिटेशन Stress or Tension को दूर करता है|


Tuesday, December 8, 2015

Chakra Balancing : Know your power chakra














संघर्ष ही जीवन है

संघर्ष ही जीवन है